You are here

पांच साल की ये बच्ची बन गयी माँ, मामले में आया पिता का नाम लेकिन जब सच सामने आया तो हर कोई रह गया हैरान

कभी रास्ते चलते किसी पांच साल की बच्ची से आप भी टकराये ज़रूर होंगें. भागदौड़ भरी इस ज़िन्दगी में उस मासूम की बेपरवाह हंसी और शरारती आँखें देखकर आपके मन में भी कभी ना कभी ये सवाल ज़रूर उठा होगा कि क्या कुछ ऐसा नहीं हो सकता कि हम वापिस उम्र के इसी पड़ाव में पहुँच जायें? फिर से बच्चे बन जायें? फिर से ज़िन्दगी के झंझट-झमेलों से दूर चले जायें? ये उम्र ही ऐसी होती है जिसमें हमने क्या किया, क्या कहा, किसी ने हमारे साथ क्या किया ये शायद हमें याद ना हो लेकिन ज़िन्दगी भर ये बातें आपके साथ रहेंगी ये बात हम दावे के साथ कह सकते हैं.

ज़रा सोचिये अपनी पांच साल की उम्र में आप कैसे रहे होंगें? बेख़ौफ़? गुड्डे-गुड्डियों की शादी की चिंता में दिन-दिन बिता देने वाले? दिन भर खेल कर भी ना थकने वाले, ऐसे ही ना? लेकिन आज हम आपको पांच साल की ऐसी बच्ची की कहानी बताने जा रहे हैं जो खुद ठीक से खाने का चम्मच ना पकड़ पाने वाली उम्र में एक बच्चे का डायपर बदलने को मजबूर थी. एक ऐसी बच्ची जो गुड्डे-गुड्डियों की शादी कराने वाली उम्र में खुद एक बच्चे का पालन-पोषण करने को मजबूर थी, जी हाँ ये 5 साल की बच्ची इसी उम्र में माँ बन चुकी थी.

पांच साल की इस माँ का नाम था लीना मेडिना
लीना का जन्म 27 सितंबर 1933 को पेरू के एक छोटे से गांव तिकरापो में हुआ था लेकिन उस वक़्त शायद ही किसी को इस बात की भी भनक लगी हो कि जल्द ही लीना खुद एक माँ बनने वाली है. दरअसल बताया जाता है कि लीना एक बीमारी से ग्रस्त थी, इस बीमारी का नाम था precocious puberty. ये एक रेअर बीमारी होती है, जिसमें इस बीमारी से ग्रस्त इंसान का शरीर समय से पहले ही विकास करने लग जाता है. लीना इसी बीमारी से ग्रस्त थी जिसके चलते लीना के गुप्तांग समय से पहले विकसित हो गए थे. उदाहरण के तौर पर समझाएं तो आमतौर पर लड़कियों के इन अंगों का विकास 10 साल की उम्र में होता है लेकिन लीना को आठवें महीने से ही पीरियड्स होना शुरू हो गए थे. इतना ही नहीं चार साल की उम्र में ही लीना के ब्रेस्ट पूरी तरह विकसित हो गए थे.

पांच साल की उम्र में बढ़ने लगा था लीना का पेट
लीना का बचपन बिलकुल भी सामान्य बच्चों की तरह नहीं था. वो नन्ही सी ही उम्र में वो सब देख और झेल रही थीं जो आमतौर पर लड़कियां 12-13 उम्र में झेलती हैं. लीना जब पांच साल की हुईं तो उनका पेट फूलने लगा. उनकी माँ हैरत में थीं. किसी को समझ नहीं आ रहा था कि लीना को हुआ क्या है. तब उनकी माँ के दिमाग में ख्याल आया कि कहीं लीना को ट्यूमर तो नहीं है. अपने इसी शक की पुष्टि के लिए वो डॉक्टर के पास गयीं जहाँ उन्हें वो सुनने को मिला जो एक खौफनाक सपने सा था. लीना की माँ को वहां पता चला कि उनकी मासूम लीना माँ बनने वाली है. जिस समय लीना के परिवार को ये बात पता चली उस समय लीना आठ महीने के गर्भ को लेकर अपने साथ जी रही थी. यकीनन अब काफी देर हो चुकी थी.

बच्चे का नाम रखा गेराल्डो
लीना की ये समस्या अच्छे-अच्छों के पसीने छुड़ाने वाली थी. ऐसे में किसी को तो आगे आना ही था. तब डॉक्टर गेराल्डो लोजाडा ने हिम्मत दिखाते हुए लीना का केस अपने हाथ में लिया. सब सही हुआ और लीना ने 14 मई 1939 को एक स्वस्थ बच्चे को जन्म दिया. जी हाँ खुद पांच साल सात महीने और 17 दिन की इस नन्ही सी बच्ची ने एक बच्चे को जन्म दिया. हाँ उस वक़्त लीना की शारीरिक हालत को मद्देनजर रखते हुए उनका बच्चा सर्जरी से करवाया गया था. इसे कुदरत का करिश्मा ही कहेंगे कि जिस बच्ची को अपने हर काम के लिए अपनी माँ की ज़रुरत पड़ती रही होगी वो इस उम्र में ही माँ बन जाती है और माँ भी वो किसी ऐसे-वैसे दिन नहीं बल्कि मदर्स डे वाले दिन. लीना मदर्स डे वाले दिन माँ बनी थीं. लीना के बच्चे का नाम लीना के डॉक्टर के सम्मान में गेराल्डो ही रखा गया था.

अपनी माँ को अपनी बहन समझता था लीना का बेटा गेराल्डो
उम्र ही ऐसी थी, जब गेराल्डो पैदा हुए थे तो उनकी माँ खुद पांच साल की थी ऐसे में गेराल्डो उन्हें अपनी बहन समझते थे. गेराल्डो जब 10 साल के हुए तब उन्हें उनकी माँ की सच्चाई बताई गयी. ये बात अविश्वसनीय सी थी, लेकिन सच थी. गेराल्डो एक स्वस्थ बच्चे थे, लेकिन 40 की उम्र में बोन मैरो में बीमारी की वजह से उनका 1979 में निधन हो गया.

कौन था गेराल्डो का पिता?
ये सवाल तब भी था, आज भी है और शायद कल भी रहे, क्योंकि लीना ने कभी भी इस बात का ख़ुलासा किया ही नहीं. लीना से जब भी गेराल्डो के पिता का ज़िक्र किया जाता था तो वो खामोश हो जाती थीं, एकदम खामोश मानो भूत देख लिया हो. हालाँकि शक के आधार पर लीना के पिता को गिरफ्तार ज़रूर किया गया लेकिन सबूतों के आभाव में वो भी छोड़ दिए गए और गेराल्डो के पिता की मिस्ट्री अंततः के लिए हो गयी. आज भी कोई नहीं जानता कि गेराल्डो के पिता कौन थे? लीना के साथ क्या हुआ था?

लीना ने खुद बनाया अपना और अपने बेटे का भविष्य
कुछ समय के बाद लोगों ने भी ये मान लिया था कि लीना अब कभी भी गेराल्डो के पिता से जुड़े किसी भी सवाल का जवाब नहीं देंगी ऐसे में लोगों ने भी अब लीना से सवाल करना बंद कर दिया. बताया जाता है कि लीना ने डॉक्टर लोजाडा की क्लीनिक में ही नौकरी कर ली. डॉक्टर ने ही लीना की पढ़ाई और उसके बेटे की पढ़ाई का खर्च उठाया.

लीना ने अपना घर ज़रूर बसाया लेकिन…
समय बीता और आखिरकार अब वो समय आया जब लीना ने  जीवन में किसी के साथ रहने का मन बनाया. साल 1972 में लीना ने रॉल जुराडो नाम के एक शख्स के साथ लीना की मुलाकात हुई और आगे जाकर दोनों ने शादी का फैसला कर लिया. शादी के बाद लीना अपने परिवार के साथ लीमा में रहने लगीं, लेकिन उन्होंने अब भी गेराल्डो के पिता की मिस्ट्री को नहीं सुलझाया. लीना को आज बेशक से दुनिया जानती है, उनकी कहानी से हम आप रूबरू हैं लेकिन लीना खुद इस मामले में कोई बात नहीं करना चाहती. उन्होंने गेराल्डो के पिता के सवाल को यूँ ही दफना दिया और साथ ही इस मामले पर किसी भी तरह के इंटरव्यू से भी साफ़ मना कर दिया.

Top